मोदी जी के बारे मे इस लड़के ने क्या कहा है, ये किसी ने सोचा भी नही होगा

19192

ये बच्चा बोल अच्छा लेता है शायद इसलिए इसका फायदा उठाया गया है! लेकिन जिसने भी इसको ये कहानी दी है! लिख कर उसका कितना शातिर दिमाग होगा इससे अंदाज़ा लगया जा सकता है! ये बच्चा पूछ रहा है! अच्छे दिनों की परिभाषा क्या है! तो इसे पहले पुराने दिनों की गाथा सुनो क्योंकि इसकी उम्र इतनी नहीं की इसने पुराने दिनों के बारे में भी पढ़ा होगा! दूसरा सवाल गाँधी जी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को देशभक्त बोल रहे तो इस पर कहना चाहूँगा! सरकार ने गोडसे को अब तक ऐसा कोई खिताब नहीं दिया है! ये जनता की जुबानी बाते है जनता किसे देशभक्त समझती है!

और किसे देशद्रोही ये जनता पर निर्भर करता है! और इसी बात पर में पूछना चाहूंगा की शहीद भगत सिंह के नाम के आगे आज भी आंतकवादी क्यों है! और गाँधी जी इतने बड़े वकील होने के बावजूद भी भगत सिंह का केस क्यों नहीं लड़ा !और जिस टीपू सुलतान की बात ये कर रहा उसने कितने हिन्दू मंदिर तोड़े उनकी आस्था के साथ खिलवाड़ किया! और उसने हिन्दुओ पर जितनी कुर्रता की है!

शायद अंग्रेजो पर की होती तो अंग्रेज इस धरती पर अपने पाँव ही नहीं जमा पाते!और ये तो जगजाहिर है की मुसलमान ही गाय काटता है! जिस उपवाद की बात ये कर रहा है वो गाय की पूजा नहीं कर रहा था बल्कि उसे काटने ले जा रहा था!और क्या तुम्हे डॉ. नारंग नहीं याद उसे मुसलमानो ने क्यों मारा?? जिन साध्वियों, योगी ,तोगड़िया और कमलेश तिवारी को ये नफरत के देवता कह कर सम्बोधित कर रहा है!

तो ज़रा अपने मुस्लिम समुदाय में भी आजा जिसमे आजम खान, अससुद्दीन ओवेशी, अकबरुद्दीन , इमाम बरकती और न जाने कितने मुल्ले मौलवी भरे पड़े है! ये क्या शांतिदूत है इनकी जुबान जब भी खुलती है! ज़हर के आलावा कुछ नहीं उगलती और बीच में एक व्यक्ति इसकी तारीफ़ में बोल रहा है! कुदरती तालीम ये सिखाई हुई तालीम है! न की कुदरती इसने एक शायरी भी सुनाई है उस हमारी भी कुछ चंद लाइने! ..हवाएं चल रही है!

देशभक्ति की लहरे उठी है दिलो में तिरंगे के सम्मान की चेहरे जो छुपे बैठे थे! गद्दारी के अब तक सामने वो अब निकल के आ रहे दंगा-फसाद जो अपना धर्म बना चुके थे! लूट-पाट जिनका पेशा बन चूका था नरसंहार से नहीं कतराते थे! वो आज मानवता का पाठ पढ़ा रहे अरे कौन से पुराने दिन लौटाने की बाते करते! हो एक बार इतिहास के पलट के तो देखो मानवता रोंदती हुई नज़र आएगी! भारत माता खून के आंसू रोती हुई अपने टुकड़ो को समेटी हुई नज़र आएगी! नहीं भर पाओगे वो घाव इस मिटटी के जिसने तुम्हे अपने खून से सींचा है! ये नए दिन पुरानो से बेहतर है अच्छो का तो पता नहीं पर कल से बेहतर है!

देखें यह विडियो:-

Pls Watch.

Publié par Aman Arora sur mercredi 6 septembre 2017